कोई तो आयेगा खेवनहार

जब समन्दर ने नदी से पुछा , तू इतनी गंदी कैसे हो गयी, नदी ने मर्मस्पर्शी जवाब दिया , आज मै बहुत दुखी हूँ,  क्योंकि मै आज माँ (गंगा) के घर से नहा के आ रही हूँ, मै पहले ऐसी नही थी,  आज मुझे अपनी जल से , नहाने का जी नही करता , आज… Continue reading कोई तो आयेगा खेवनहार

आखिर वो चली ही गयी

कल न्यूज पेपर में एक मार्मिक, दिल को झकझोरने वाली खबर पढा और आज वो न्यूज टीवी और सोशल मिडिया पर खूब चली. बहुत दुख:द कहानी है . इस खबर ने बहुत सारे लोगों की आँखे खोल दी . पैसे के पिछे भाग रहा इंसान जाने या अनजाने में रोज़ मानवता की हत्यायें कर रहा… Continue reading आखिर वो चली ही गयी

संज़िदा

हाँ थोडा संजीदा हूँ, यू ही मुस्कुराने की कला आती नही मुझे , शायद इसीलिए धोखा खा जाता हूँ, चेहरे पे चेहरा रखना आता नही , नकली बनकर हँसाना भी नही आता, थोडा धीर हूँ और गंभीर भी, शायाद यही गच्चा खा जाता हूँ, सच में भरोशा करता हूँ , झूठ कभी बोलता नही ,… Continue reading संज़िदा

रक्षाबंधन

आप सभी को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें.. सभी भाई- बहनों के लिये आज का दिन खाश है . बचपन से लेकर आज तक हमने बहुत सी कहानियाँ हमने पढी है इस त्योहार को मनाने के मायने क्या है . सबमें एक बात कामन है वो है भाई-बहन का प्यार . आईए आज के दिन सभी… Continue reading रक्षाबंधन