बढ़ते चले जाओ

होते हैं अतीत की यादें ,

कुछ खट्टे,कुछ मीठे ,

यही तो ज़िंदगी है ,

मत रुको अये दोस्त ,

उन कड़वे यादों में खो कर,

बस बढ़ते चले जाओ मुस्कुराते हुए ,

अपनी मज़िल की ओर ,

मिल ही जाएगी मंजिल ,

विश्वास रखो ख़ुद में ,

बस सीखते जाओ ,

अपने अतीत से।

tag31

आपका ,

meranazriya.blogspot.com

Advertisements