राजनीति

एक बार फ़िर नितिश कुमार ने अपने अंतरात्मा की आवाज़ पर लालू को छोड़कर अपने पुराने साथी सुशील मोदी के साथ हो लिये. क्या ये घटनाक्रम फिक्स था ? राजनीति में एक चीज़ ही फिक्स होती है वो है कुर्सी . जो भी व्यक्ति सत्ता पाने में सफ़ल हो जाता है और साथ ही साथ अपना चेहरा भी दागदार होने से बचा लेता है वही सबसे बडा राजनीतिज्ञ है . नितिश ये सब करने में माहिर है और उन्होंने ये कई बार साबित भी किया है .

            सही क्या गलत क्या है ये सब आप चर्चा करते रहीये. मैंने इससे पहले अपने पूर्व के लेखों में पहले ही बताया है .

“Nothing is right or wrong it’s state of mind” only.

अच्छा मसाला है न्यूज चैनलों के लिये ,अगला 15-20 दिन तो निकल ही जायेगा जब तक कि कोई नया मुद्दा ना मिल जाए.


आपका,

meranazriya.blogspot.com

meranazriyablogspotcom.wordpress.com

Advertisements

One thought on “राजनीति

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s