मेरी हदें….

कोई मेरे हदें बता दे..

कहाँ तक जाना है मुझे ,

ये जता दे,

मै तो मसाफ़िर हूँ,

चलना मेरी आदत है ,
हसरतों की लिस्ट ज़रा लंबी है ,

एक -एक कर पाने की ,

ख्वाईश रखता हूँ,

करता रहुँगा कोशिशे लगातार,

जब तक ना कोई मेरे हदें बता दे,
एक छलाँग मारना है मुझे ,

बस सही मौके की तलाश है ,

हमे दिखानी है दुनिया को ,

आखिर मेरी हदें क्या है …..

छू  लेता आसमां को ,

गर कुछ मज़बूरियाँ ना होती ,

इरादे नेक रखता हूँ,

कही ये मेरी कमज़ोरी तो नही ?

ख़ुदा के घर में देर है ,

अंधेर नहीं  ,

ऐसा लोग कहते है ,

कही ये देरी,

मेरे सब्र की इम्तहा तो नहीं ?

happy_day_wallpaper_e70d0
आपका,

meramazriya.blogspot.com

meranazriyablogspotcom.wordpress.com

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s